Adarsh Homoeo Clinic » February 27, 2015

Daily Archives: February 27, 2015

Disease in cure

दिशा निर्देश

Published by:

दिशा निर्देश

1. दवा नियत समय पर ही लें।

2. किसी प्रकर की अनियामितता / परेशानियॉ महसुस करने पर सम्पर्क नम्बर पर जरुर सम्पर्क करें।

3. दवा लेने के बाद विमारी का बढ जाना, कम होना, या कोई परिवर्तन न होने सम्बंधि शिकायतें जरुर बतलायें।

4. दवा को तेज रोशोनी, उच्च ताप्क्रम वाले स्थान,तथा विकिरण वाले जगह पर न रखें।

5. दवा को हथेली या किसी अन्य वस्तु के सम्पर्क के सहारे न लें।

6. जरुरत परने पर ताजे एवं साफ पानी का उपयोग करें।

7. किसी प्रकर की आशंका होने पर बेहिचक वतलाये।

8.प्रत्येक दवा हमारे क्लिनीकल अनुभव एवं परिक्षण के वाद ही दी जाती है।

9. उत्प्रेरक जैसे तमबाकू, बिड़ी, सिगरेट, शराब, जर्दा, सुगंधीत वस्तु इत्यादि दवा खाने के ½ घंटा पहले या बाद तक न लें। ,

10. भोजन में सुपाच्य एवं संतुलित आहार ही लें।  अत्यधिक खट्टा या मीठा स्वास्थ्य के लिये हानिकातक हो सकता है।

11. मेरा उदेश्य आपके स्वास्थ्य एवं बुद्धिमतता युक्त जीवन को बनाये रखना है।

12. हमारे उदेश्य मे आपका पुर्ण सहयोग अपेक्षित है।

Disease in cure

सुबिधा

Published by:

Treatment facility,

आदर्श होमियो क्लिनिक, सुविधा, Available facility,


Facility in Clinic
1. कम्प्युटर के द्वारा भी दवा चुनी जाती है।
2. यहॉ नये, पुराने एवं असाध्य रोगों का सफल इलाज किया जाता है।
3. लाइलाज विमारी में भी यहॉ की दवा विशेष लाभदायक है।
4. यहॉ नियमित जॉच की व्यवस्था है,जिससे असामयिक रुप से होने वाली बीमारी से बचाव होता है।
5. विभिन्न प्रकार की बीमारी जैसे-
• मानसिक रोग‌- स्मरणहीनता, चिरचिरा होना, पागलापन, निंद न आना, गहरी निराशा, गहरा डर, गहरा भय, गहरी ऊदसी।
• स्वाशनली सम्वंन्धी रोग- क्षय रोग, कफ, सीना मे दर्द।
• पेट सम्वंन्धी रोग- पेट का दर्द, सुजन, गैस बनना, भुख न लगना, अपच।
• मुत्रनली सम्वंन्धी रोग- जलन, पेडु मे दर्द,, बुंद-2 पेसाव, पथरी, पेसाव से खून आना।
• मलद्वार सम्बन्धी रोग:- बाबसीर, खून आना, जलन, दर्द होना, खुजली।
• ऑख, कान, नाक, गला सम्वन्धी रोग- ऑख आना, दृष्टि कम होना, कान बहना, कम सुंनना, दर्द होना, साइनोसाइटिस, सर्दी, टॉनसिलाइटिस, गले मे खरास, दॉत मे दर्द, अल्सर।
• त्वचा सम्वंन्धी रोग- सफेद दग, बल गिरना, सफेद होना, घाव होना एक्जिमा, जुलपिट्टी।
• नस एवं नाडी सम्व्न्धी रोग- साइटिका, सुन्नापन, झिनझिनी, चिंटी रेंगने जैसी अनुभुति।
• जोंड़ो का दर्द- गठिय, आर्थराईटिस, जोंड़ो का सूजन, कमर तथा रीढ़ की हड्डी का दर्द, हड्डी का टुट जान।
• स्त्रियों तथा पुरुषों मे होने वाली गुप्त रोग।
 स्त्रि:- स्वेतप्रदर, खुन की कमी, चक्कर आना, बाझपन, मसिक सम्बंन्धि बिमारी, इत्यदि।
 पुरुष:- स्वप्नदोष, सिघ्रपतन, शुक्राणु की कमी।
• विभिन्न प्रकर के दर्द, हाथ पैर मे जलन, अपच, बदहजमी, निंद ना आना।
• अरुचि, पिलीआ(jaundice), बुखार, कमजोरी, कालाजार,इत्यादि।
बिमारीओं के लिये सम्पर्क करें।

क्लिनीक स्थल:- ट्रेनिग स्कूल महेन्द्रू के सामने वाले गली यानी मुहम्मदपुर लेन मे गैातम वुद्ध स्कूल के सामने।
विषेश मिलने पर