सफलता और यादाश्त
सफलता और यादाश्त

सफलता और यादाश्त

सफलता एक संयोग नही होता है बल्कि इसे पाने के लिए जरूरी प्रयत्न करना परता है, तब जाकर सफलता मिलती है। इसको पाने के लिए हमारे यादाश्त का बड़ा योगदान होता है। इसके बिना सफलता पाना गुणात्मक योग नहीं कहलाता है। कई लोग स्वध्याय के प्रबलता के आधार पर योग साधना के द्वारा सफलता पा लेता है। उसे सफलता के बारे मे ज्यादा बिचार बिमर्श नहीं करना पड़ता है, जबकि अधिकांश लोग इससे बंचित रह जाते है। जिसको सफलता के विभिन्न आयामो को ध्यान देकर उसके समुचित अनुपालन के द्वारा  प्राप्त करता है। इसमे आने बाली बाधाओं को ध्यान देकर दुर करना पड़ता है। सही समाधान नहीं निकल पाने पर तनाव का जन्म होता है जो इसके मार्ग मे एक बड़ी बाधा बनकर उभरता है। सही समाधान का निकलना हमारे दिमाग यानि यदाश्त की  शक्ति पर निर्भर करता है। इसको बनाने, बनाये रखने के लिए जरूरी विधि का उपयोग अति आवश्यक है। आजकल यादाश्त की एक बड़ी समस्या तनाव का होना है। हमारी उच्चाकांक्षा तथा हमारे शक्ति का समुचीत समावेश नहीं होने से होता है। इसके हल के लिए हम एक निश्चत योग विधि को अपनाकर दुर कर सकते है। योग विधि के उपयोग मे यदि कोई बाधा आती है तो उसका हल ईलाज तथा प्रभावित व्यक्ति के काउन्सेलिंग के द्वारा निकाला जाता है।

 

success determination
success determination

Student success and memory
Memory play a major in success of student in their life. We make various means for success in life. In study time there are many thinks that binds our thinking that thinking is liver of our success. Genetically basis mind is not basis of development but there are many events that affects our thinking either in uterine life of childhood. In uterine life

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *